हिमाचल विधानसभा शीतकालीन सत्रः पहले ही दिन जमकर हंगामा और वॉकआउट, कुलदीप पठानिया होंगे स्पीकर

 हिमाचल प्रदेश के धर्मशाला में विधानसभा के शीत सत्र (HP Assembly Winter Session) का आगाज हो गया है. पहले दिन जमकर हंगामा देखने को मिला. सुक्खू सरकार में जयराम राज में खोले गए 600 से ज्यादा संस्थानों को लेकर सत्तापक्ष और विपक्ष में जमकर नोकझोंक देखने को मिली है. इस दौरान पूर्व सीएम जयराम ने मोर्चा संभाला और सुक्खू सरकार के 20 दिन के कामकाज पर सवाल उठाए. उधर सीएम सुक्खू ने भी पलटवार किए. हालांकि, बाद में विपक्ष ने सदन से वॉक ऑउट कर दिया. अंत में सदन की कार्यवाही गुरुवार तक के लिए स्थगित कर दी गई.


इससे पहले, प्रोटेम स्पीकर चंद्र कुमार ने सदन के सभी सदस्यों को शपथ दिलाई. कुछ विधायकों ने जहां हिंदी तो कुछ ने अंग्रेजी में शपथ ली. इसके बाद सत्तापक्ष औऱ विपक्ष में तकरार हुई. वहीं, सदन की दर्शक दीर्घा से शपथ ग्रहण के दौरान तालियां बजाने को लेकर नेता विपक्ष जयराम ठाकुर ने आपत्ति जताई औऱ कहा कि यह मयार्दा के खिलाफ है. इतने सारे लोग कैसे गैलरी में आ गए. बता दें कि गैलरी में कांग्रेस की प्रदेशाध्यक्ष प्रतिभा सिंह भी मौजूद थी.


संस्थानों को लेकर सदन में गहमाहमी


प्रोटेम स्पीकर चंद्र कुमार औऱ सत्ता पक्ष के अनुरोध पर विपक्ष शांत हुआ. उसके बाद कहीं जाकर सौहार्दपूर्ण तरीके से शपथ ग्रहण सम्प्पन हुआ, बावजूद इसके जैसे ही शपथ ग्रहण सम्पन्न हुआ उसके बाद फिर से विपक्ष की ओर नेता प्रतिपक्ष ने 900 कार्यालयों को डीनोटिफाई करने का मुद्दा उठा दिया. इस बीच सदन में काफी गर्मागर्मी के बीच विपक्ष ने सदन से वॉक आउट कर दिया.


क्या बोले नेता विपक्ष जयराम ठाकुर

नेता प्रतिपक्ष जयराम ठाकुर ने कहा कि ये हिमाचल के इतिहास में पहली मर्तबा देखने को मिल रहा है कि कांग्रेस की सुखविंदर सिंह सुक्खू सरकार बदले की भावना से काम कर रही है. कैबिनेट हमेशा फाइनेंस से सर्वोत्तम होती है. सरकार के फैसलों पर रिव्यू किया जा सकता है, लेकिन कैबिनेट के फैसलों को डीनोटिफाई नहीं किया जा सकता है. इनके कार्यकाल में महज एक सप्ताह में 21 शिक्षण संस्थान खोल दिये थे, हमने भी रिव्यू किया, मगर उन्हें डीनोटिफाई नहीं किया. बजट का प्रावधान करना सरकार का काम है, इसलिए जो संस्थान खुले हैं, वहां स्टाफ़ और बजट सरकार मुहैया करवाए. उन्होंने कहा कि सरकार की सम्वेदनाएँ खत्म हो चुकी हैं, जो आभार रैली में तैनात आईपीएस अफसर के आकस्मिक निधन के बाद भी कार्यक्रम चलता रहा. ये बहुत बड़ी विडंबना है. उन्होंने कहा कि अगर सरकार सदन चलाना चाहती है तो अपने फैसलों पर पुनर्विचार करे, रिव्यू करे, फिर फैसले ले, ना कि पहले फैसले और फिर रिव्यू किया जाए. ये गलत परम्परा है.


कौन बनेगा स्पीकर

हिमाचल के चंबा जिले के भटियात से विधायक कुलदीप सिंह पठानिया विधानसभा के अगले स्पीकर होंगे, उन्होंने नामांकन दाखिल किया है. उनका सिंगल नोमिनेशन है औऱ वह पक्ष औऱ सत्तापक्ष के सांझा प्रत्याशी हैं. ऐसे में उनका अध्यक्ष बनना तय है. गुरुवार को उनका चुनाव होगा. 65 वर्षीय कुलदीप पठानिया पूर्व में कांग्रेस के प्रदेशाध्यक्ष रह चुके हैं. वह चौथी बार चुनाव जीतकर आए हैं. कुलदीप पठानिया 1985 में पहली बार कांग्रेस से विधायक बने थे और दूसरी बार 2003 में आजाद चुनाव जीता था. तीसरी बार 2007 और 2022 में चौथी बार विधायक निर्वाचित हुए हैं.

Post a Comment

0 Comments
* Please Don't Spam Here. All the Comments are Reviewed by Admin.

Top Post Ad