हिमाचल में बड़े संकट की आहट तो नहीं, 23 दिन में छठी बार भूकंप से दहशत

 हिमाचल प्रदेश में एक बार फिर भूकंप के झटकों से धरती हिली है। रविवार आधी रात प्रदेश में भूकंप के झटके महसूस किए गए हैं। मौसम विज्ञान केंद्र शिमला के मुताबिक इस भूकंप की तीव्रता रिक्टर स्केल पर 2.5 रही। यह भूकंप मध्यरात्रि 12.42 बजे महसूस किया गया। भूकंप का केंद्र मंडी जिला के सुंदरनगर के समीप बेयरकोट गांव में जमीन के भीतर 05 किलोमीटर की गहराई में था। 


मंडी के अलावा आसपास के जिलों में भी तीन से पांच सेकंड तक भूकंप के झटके लगे। राज्य आपदा प्रबंधन प्राधिकरण के निदेशक सुदेश मोक्ता ने बताया कि तीव्रता कम होने के कारण भूकंप से कहीं भी नुकसान की रिपोर्ट नहीं है। 


प्रदेश में पिछले 23 दिनों में छह बार आ चुका भूकंप

प्रदेश में पिछले एक माह से लगातार भूकंप के झटके लगने से लोग दहशत में हैं। बीते 23 दिनों में राज्य के विभिन्न हिस्सों में छह बार भूकंप आया है। हालांकि हर बार भूकंप की तीव्रता कम रहने से जान-माल का नुकसान नहीं हुआ है। 06 दिन पहले यानी 03 जनवरी को सोलन जिला में 2.7 तीव्रता के भूकंप के झटके लगे थे। इससे पहले 31 दिसंबर को मंडी जिला में भी इतनी ही तीव्रता का भूकंप आया था। बीते 26 दिसंबर को कांगड़ा, 21 दिसंबर को लाहौल-स्पीति और 16 दिसंबर को किन्नौर जिला में भूकंप के झटके लग चुके हैं। बार-बार लग रहे भूकंप के झटकों से प्रदेशवासियों में भय का माहौल है। 


भूकंप के लिहाज से अतिसंवेदनशील ज़ोन में है हिमाचल

हिमाचल प्रदेश भूकंप की दृष्टि से अति संवेदनशील जोन चार व पांच में शामिल है। भूविज्ञानी इस पर्वतीय राज्य में बड़े स्तर का भूकंप आने की आशंका जता चुके हैं। वर्ष 1905 में कांगड़ा और चम्बा जिलों में आये विनाशकारी भूकंप में 10 हज़ार से अधिक लोग मारे गए थे।

Post a Comment

0 Comments
* Please Don't Spam Here. All the Comments are Reviewed by Admin.

Top Post Ad