हिमाचल सरकार शुरू करेगी ‘‘निगाह’’ कार्यक्रम

बाहर से लौटे लोगों के परिजनों को कार्यक्रम के तहत किया जाएगा शिक्षित

बाहरी राज्यों से हिमाचल प्रदेश आने वाले लोगों के परिजनों को शिक्षित एवं संवेदनशील बनाने और सामाजिक दूरी को सुनिश्चित बनाने के उद्देश्य से प्रदेश सरकार एक नया कार्यक्रम ‘‘निगाह’’ आरम्भ करेगी। मुख्यमंत्री श्री जयराम ठाकुर जी ने आज से प्रदेश के उपायुक्तों, पुलिस अधीक्षकों और मुख्य चिकित्सा अधिकारियों के साथ वीडियो काॅन्फ्रेंस के माध्यम से यह जानकारी दी। उन्होंने कहा कि प्रदेश के हजारों लोग देश के विभिन्न हिस्सों में फंसे पड़े हैं और इस स्थिति में यह आवश्यक है कि घर वापसी करने वाले प्रत्येक व्यक्ति की समुचित स्वास्थ्य जांच करने के साथ-साथ उसकी यात्रा का पूरा विवरण लिया जाए। आशा कार्यकर्ताओं, स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं और आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं का दल बाहरी राज्यों से वापस हिमाचल लौटने वाले लोगों के घर-घर जाकर उनके परिजनों को सामाजिक दूरी बनाए रखने के महत्व के बारे में शिक्षित करेगा।

क्रमबद्ध तरीके से जारी किए जाएंगे कर्फ्यू पास
मुख्यमंत्री श्री जयराम ठाकुर जी ने कहा कि विभिन्न राज्यों से वापस अपने पैतृक स्थान लौटने की इच्छा रखने वाले लोगों को क्रमबद्ध तरीके से पास जारी किए जाएं, ताकि राज्य के प्रवेशद्वारों पर अनावश्यक भीड़ एकत्र न हो सके। इससे जिला प्रशासन को भी इन लोगों की समुचित निगरानी के लिए प्रबन्ध और क्वारन्टीन सुविधा प्रदान करने में सहायता मिलेगी। उन्होंने कहा कि प्रदेश में प्रवेश करने वाले लोगों को ‘‘आरोग्य सेतु ऐप’’ डाउनलोड करने के लिए कहा गया है और साथ ही यह निर्देश भी दिए गए हैं कि उन्हें सामाजिक दूरी बनाए रखने के महत्व के बारे में आवश्यक सूचना, शिक्षा एवं संचार सामग्री वितरित की जाए।

पंचायत प्रतिनिधियों को निभानी होगी विशेष भूमिका
मुख्यमंत्री श्री जयराम ठाकुर जी ने निर्देश दिए कि बाहरी राज्यों से आने वाले लोगों के घरों को उचित तरीके से चिन्हित किया जाए ताकि उस मोहल्ले में रहने वाले लोगों को इसकी जानकारी हो। पंचायती राज संस्थानों और शहरी स्थानीय निकायों के प्रतिनिधियों को यह सुनिश्चित बनाना होगा कि बाहर से आए लोग निर्धारित समय तक अपने घरों में क्वारन्टीन की अवधि पूरा करें। इसके साथ ही उन्हें ऐसे लोगों के परिजनों को भी अपने परिवार में सामाजिक दूरी बनाए रखने के लिए प्रेरित करना होगा।


होम क्वारन्टीन का उल्लंघन करने वालों के खिलाफ होगी कड़ी कार्रवाई
मुख्यमंत्री श्री जयराम ठाकुर जी ने कहा कि प्रदेश ने कोविड-19 महामारी पर नियंत्रण पाने की दिशा में सफलतापूर्वक कार्य किया है और हिमाचल माॅडल को आज देशभर में सराहा जा रहा है। उन लोगों के विरूद्ध कड़ी कार्रवाई की जाएगी जो गृह क्वारन्टीन का उल्लंघन करेंगे, क्योंकि उनकी लापरवाही से न केवल उनका परिवार बल्कि पूरा समाज जोखिम में आ सकता है।

प्रवासी मजदूरों को उपलब्ध करवाया जाएगा रोजगार
मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य सरकार प्रदेश के लोगों और बाहरी राज्यों में फंसे यहां के लोगों की सुरक्षा के लिए प्रतिबद्ध है और बाहर से लोगों को वापस लाने के लिए व्यापक प्रबन्ध किए जा रहे हैं। ऐसे में यह आवश्यक है कि लोग सरकार के प्रयासों में सहयोग दें और इस महामारी पर पूर्ण नियंत्रण के लिए निर्धारित दिशा-निर्देशों की अनुपालना करें। मुख्य सचिव श्री अनिल खाची ने कहा कि प्रवासी मजदूरों को रोजगार प्रदान कर यहीं रहने के लिए प्रेरित किया जाना चाहिए। इससे प्रदेश में विकास कार्य और कृषि गतिविधियां प्रभावित नहीं होंगी।

विस क्षेत्र सुलह लोगों ने एचपी एसडीएमए कोविड-19 फंड में किया अंशदान
हिमाचल प्रदेश विधानसभा अध्यक्ष श्री विपिन सिंह परमार ने कांगड़ा जिला के सुलह विधान सभा क्षेत्र के लोगों की ओर से ‘‘एचपी एसडीएमए कोविड-19 स्टेट डिजास्टर रिस्पॉन्स फंड’’ के लिए 5,78,604 रुपए का चैक आज यहां मुख्यमंत्री श्री जयराम ठाकुर जी को भेंट किया।
परिवहन मंत्री श्री गोविन्द सिंह ठाकुर ने भी मुख्यमंत्री को टैक्सी यूनियन संयुक्त कल्याण समिति, शिमला की ओर से इस फंड के लिए एक लाख रुपये का अंशदान दिया। इस अवसर पर यूनियन के अध्यक्ष अजय सिंह सिलवानी और उपाध्यक्ष राजेश ठाकुर भी उपस्थित थे। मुख्यमंत्री ने इस पुनीत कार्य के लिए उनका आभार व्यक्त किया।

हिमाचल से बाहर अन्य राज्यों में लॉकडाउन के कारण फंसे ऐसे नागरिक जिन लोगों के पास वाहन की व्यवस्था नहीं है वे इस http://covid19epass.hp.gov.in/ लिंक पर अपना पंजीकरण करवाएं, उन्हें कोविड ई-पास आवेदन करने की आवश्यकता नहीं है। सरकार जल्द उन्हें संपर्क करके उन्हें लाने की उचित व्यवस्था करेगी ।

Meeting Of Labour & Employment Deptt. At Shimla

मुख्यमंत्री श्री जयराम ठाकुर जी की प्रदेशवासियों से अपील ।




courtesy: CMO Himachal Pradesh

Post a Comment

Latest
Total Pageviews