संस्कृत विश्वविद्यालय को अभी लंबा इंतजार

शिमला – हिमाचल प्रदेश में संस्कृत विषय में अपना भविष्य बनाने वाले छात्रों को संस्कृत विश्वविद्यालय के लिए अभी लंबा इंतजार करना होगा। हैरानी की बात है कि शिक्षा विभाग संस्कृत विश्वविद्यालय के कार्यों के लिए कमेटी का गठन ही सही रूप से नहीं कर पाया है। जानकारी के अनुसार राज्य सरकार ने संस्कृत विश्वविद्यालय को शुरू करने से पहले शिक्षा विभाग को कमेटी गठित करने के निर्देश दिए थे और कहा था कि कमेटी के सदस्यों को संस्कृत विवि से जुड़े महत्त्वपूर्ण कार्यों का जिम्मा सौंपा जाए। बावजूद इसके शिक्षा विभाग अभी तक विश्वविद्यालय के कार्यों के लिए कमेटी ही गठित नहीं कर पाया है। जानकारी के अनुसार जब तक शिक्षा विभाग कमेटी में सरकार के निर्देशानुसार सदस्यों को शामिल नहीं कर लेता, तब तक विश्वविद्यालय से जुड़े आगे के कार्यों को सरकार अनुमति नहीं देगी। गौर हो कि संस्कृत विश्वविद्यालय के लिए मंडी जिला के सुंदरनगर में जमीन तलाशी जा रही है। विभाग के सूत्रों की मानें तो इसे लेकर प्रदेश सरकार ने सुंदरनगर संस्कृत कालेज के प्राचार्य से रिपोर्ट भी मांगी है। रिपोर्ट आने के बाद इस पर आगामी कार्रवाई की जाएगी। विभागीय सूत्रों की मानें, तो सुंदरनगर में संस्कृत विश्वविद्यालय खोलने को लेकर जयराम सरकार से प्रतिनिधिमंडल भी मिल चुका है। वहीं सरकार ने भी मंडी जिला में संस्कृत विश्वविद्यालय खोलने पर अपनी सहमति जता दी है। दूसरी ओर प्रदेश सरकार राज्य में दो नए संस्कृत कालेज खोलने की प्रक्रिया शुरू कर दी है। चंबा और घुमारवीं के डंगार में संस्कृत के नए कालेज खोले जाएंगे। बिलासपुर जिला में घुमारवीं के डंगार में संस्कृत कालेज खोलने की घोषणा मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने कुछ महीने पहले ही की थी। इसे लेकर उच्चतर शिक्षा निदेशालय ने प्रस्ताव तैयार कर प्रदेश सचिवालय को भेजा है। वहां से मंजूरी मिलने के बाद संस्कृत कालेज खोलने की प्रक्रिया को आगे बढ़ाया जाएगा। बता दें कि वर्तमान में प्रदेश में सात सरकारी संस्कृत कालेज हैं। सुंदरनगर, सोलन फागली, नाहन, क्यारटू, तुंगेश और सरैन में संस्कृत कालेज चल रहे हैं। इसके अलावा निजी क्षेत्र में 22 के करीब संस्कृत कालेज हिमाचल में हैं। संस्कृत विवि खुलने के बाद ये सभी कालेज इसके अधीन आएंगे। उल्लेखनीय है कि मौजूदा समय में प्रदेश में जितने भी सरकारी संस्कृत कालेज हैं, उन कालेजों में सौ से ज्यादा छात्र पड़ रह है। विभागीय जानकारी के अनुसार इन छात्रों को संस्कृत से जुड़े विषयों में अगर पीएचडी करनी होती है, तो दूसरे राज्यों में जाना पड़ता है। हिमाचल प्रदेश विश्वविद्यालय में भी संस्कृत के छात्रों को पीएचडी की कोई सुविधा नहीं है।

The post संस्कृत विश्वविद्यालय को अभी लंबा इंतजार appeared first on Divya Himachal: No. 1 in Himachal news - News - Hindi news - Himachal news - latest Himachal news.


Courtsey: Divya Himachal
Read full story: http://www.divyahimachal.com/2019/01/%e0%a4%b8%e0%a4%82%e0%a4%b8%e0%a5%8d%e0%a4%95%e0%a5%83%e0%a4%a4-%e0%a4%b5%e0%a4%bf%e0%a4%b6%e0%a5%8d%e0%a4%b5%e0%a4%b5%e0%a4%bf%e0%a4%a6%e0%a5%8d%e0%a4%af%e0%a4%be%e0%a4%b2%e0%a4%af-%e0%a4%95%e0%a5%8b/

Post a Comment

Latest
Total Pageviews